कविता - हम ।'s image
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes
एक  शाम आई है , एक शाम गई थी,
हम उसी घास के मैदान पर कल भी
बैठे थे , जहां आज बैठे हैं।

लेखक -अनुराग उपाध्याय ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts