भारत भूमि - अनुराग अंकुर की कविता's image
Independence DayPoetry1 min read

भारत भूमि - अनुराग अंकुर की कविता

Anurag AnkurAnurag Ankur October 30, 2021
Share1 Bookmarks 46 Reads1 Likes

जनमानस के अंतर्मन में प्रीत का दीप जला दो,

हे ईश्वर भारत भूमि मेरी सुंदर सा स्वर्ग बना दो।


जन जीवन किरण प्रभात रहे,

पूरे भारत की फुलवारी।

तन मन निज राष्ट्र समर्पित हो,

संस्कृति अमर हो भयहारी।


गंगा के निर्मल जल सा तुम, समता का नीर बहा दो,

हे ईश्वर भारत भूमि मेरी सुंदर सा स्वर्ग बना दो।


हैं हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख यहां,

ना धर्म जाति की बाधा हो।

खुशियों के अगणित पुष्प खिले,

जीवन तम रहित निराला हो।


ना वैमनष्य, ना रहे द्वेष ,अनुराग का राग बजा दो।

हे ईश्वर भारत भूमि मेरी सुंदर सा स्वर्ग बना दो।


सभ्यता यशस्वी हो जाए,

मानवता का सम्मान रहे।

एकमात्र निज तिरंगे पर,

अर्पित तन-मन-धन प्राण रहे।


इस विश्व पटल पर हे दाता , भारत का मान बढ़ा दो।

हे ईश्वर भारत भूमि सुंदर सा स्वर्ग बना दो।


~ अनुराग अंकुर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts