मैं जुगनू's image
Share0 Bookmarks 89 Reads1 Likes
मैं जुगनू
बेचैन सा घुमू
रातों को 
उड़ता सा फिरूँ 
दर-बदर
कहीं ना रुुुुकू
शायद अब 
बस ठहरुंगा तेरी हथेली पर 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts