love's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes
तमन्ना थी कि हम उनकी नज़र में खास बन जाते
कभी उनके लिए धरती कभी आकाश बन जाते

अगर वे प्यास होते तो हृदय की तृप्ति बनते हम
अगर वे तृप्ति होते तो अधर की प्यास बन जाते

समय की चोट से आहत हृदय यदि टूटता उनका
परम विश्वास बनते या चरम उल्लास बन जाते

भिगोती जब किसी की याद पलकों के किनारों को
उमड़ते प्यार में डूबा हुआ अहसास बन जाते

समय की चाल पर जो ज़िन्दगी की हारते बाजी
जिताने के लिए उनको तुरुप का ताश बन जाते

पड़े होते अगर वीरान में बनकर कहीं पत्थर
वहाँ हर ओर उनके हम मुलायम घास बन जाते

दिखाई हर तरफ उनको ये अनुज ही देता
बिठा कर केंद्र में उनको परिधि या व्यास बन जाते

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts