एक दिन चलो चलते है संगम के पास !!!'s image
Poetry1 min read

एक दिन चलो चलते है संगम के पास !!!

Annu palAnnu pal October 12, 2021
Share0 Bookmarks 75 Reads1 Likes
एक दिन चलो चलते है संगम के पास,
संगम की रेती से एक घर बनाते है,
और फिर शाम आ जाए,
फिर आसमा तक चलकर तारे लाये,
और मिलकर घर को सजाते है,
एक दिन लहर आई,
और बोली की रेती तो मेरी और ये घर मुझे दो,
और फिर क्या वो घर गया,
फिर हम दोनो निकल पड़े ,
अपने घर को ढूढ़ते हुए, नदी के साथ और सागर तक,
और आसमा से तारे कहते रहे की हम मुकम्मल हो गये।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts