नव वर्ष's image
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes


खुद में तुमको पाता हूँ, 

नित नए गीत गाता हूँ, 

तुम्हारी कृपा से हे ईश्वर, 

ये नव वर्ष मनाता हूँ |


इच्छा है पावन हो जाऊँ, 

बारिश की बूंदे, 

कोयल की कू कू, 

महकता सावन हो जाऊँ, 

गिन गिन रहमतें तेरी, 

मन ही मन इतराता हूँ |


तुम्हारी कृपा से हे ईश्वर, 

ये नव वर्ष मनाता हूँ |


~ अंकुर अग्रवाल

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts