जायदाद है तुम्हारी।'s image
Poetry1 min read

जायदाद है तुम्हारी।

Ankit KannaujiaAnkit Kannaujia October 16, 2021
Share0 Bookmarks 35 Reads0 Likes



मेरे ज़ेहन में हर बात है तुम्हारी,

जैसे दिल-ओ-दिमाग़ जायदाद है तुम्हारी।

            - अंकित कन्नौजिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts