छुपा रहे हैं सब कुछ न कुछ।'s image
Poetry1 min read

छुपा रहे हैं सब कुछ न कुछ।

Ankit KannaujiaAnkit Kannaujia February 3, 2022
Share0 Bookmarks 18 Reads0 Likes


शब्दों में लिखकर बता रहे हैं सब कुछ न कुछ

अंदर क्या चल रहा छुपा रहे हैं सब कुछ न कुछ।

             - अंकित कन्नौजिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts