Hindi Rajasthani Poetry, Poem of Famous Poets - राजस्थानी कविता | Anjas's image
Love PoetryPoetry1 min read

Hindi Rajasthani Poetry, Poem of Famous Poets - राजस्थानी कविता | Anjas

AnjasAnjas December 1, 2022
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

चकली


कइक चकलीए

पैले हरकी...

अवै देकाती नती!

रंग रूप चकली नो

पण पाँखे हमडी नी(चील)

माळो बाँदवा तणकलँ...

कुण वैणे

तैयार माळा माते

कब्जो जुवै!

इ भी जेटला दाड़ा

फाव्यू एटला दाड़ा

फैरी तलास

नवा ठौड़ नी

चकली आज़ाद

रैवु चावै...

तोड़ी ने

हैत्तं वचन

जै लीधँ'त

सात पगलँ भरी!


बे बिम्ब


1.


जो विचार करो

पाणी मंय रैवु

तो मगौर थकी बीवु

तो बीता ज रौ

आखी जिंदगी।


पाणी मंय रैवु

ने मगौर थकी हूं बीवु?


तो जीवता रौ

आखी जिंदगी।

पाणी भी ई ज

ने मगौर भी ई ज

फरक तो आपड़ा

विचार नो ज कैवाय...

अेक आले

लड़वानी ताकत

ने बीजो अलावे

शरणागति 

2.


दीवाळी नो

बीजो दाड़ौ

बार मईना नो हपरवो दाड़ौ

अेक-बीजा ने

घैर जावु

गळै मलवु,

पौगे पडवु

पण दाडू जँ एने घेरे

हपरवे दाडै भी हूं जावु?

ने कारैय न्हे ग्या

एने घेरे

हपरवे दाडै हूं जावु????!





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts