हिज़्र's image
Share0 Bookmarks 87 Reads1 Likes
चन्द लम्हे, चन्द लफ़्ज़
फिर हिज़्र का वो वकफ़ा.
सूने-सपाट दिनों की बैचेनी,
रहने ही दीजिए... 
ये इश्क़ नहीं आपके बस का.

अनिता सिंह सभरवाल

#इश्क़
#love
#poetry

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts