माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मन का डार दे, मन का मनका फेर।'s image
Poetry1 min read

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर, कर का मन का डार दे, मन का मनका फेर।

Amit KAmit K June 7, 2022
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes
कबीरदास

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts