शेर's image
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes
गुमाँ था कि बहारें हम ही से आती हैं गुलिस्तां में,
हम भरम में डूबे रहे, फ़िज़ा रंग बदलती रही ! 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts