मीनारें न रही's image
Share0 Bookmarks 83 Reads0 Likes
गुरूर था दौलत का तुझको मगर
मेरी अज़मत के आगे तेरी दौलत की दीवारें न रही

ज़लज़लों में इमारतें बरबाद कुछ यों हुई
कि मेरी शख्सियत से ऊंची कोई मीनारें न रही

- अमित 'तन्हा'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts