प्रेम ~'s image
Share0 Bookmarks 120 Reads1 Likes
"प्रेम " शब्द का जिक्र होते ही हमारे मन में किसी प्रेमी या प्रेमिका का ख़्याल ही क्यों आता हैं, क्यों याद नहीं आते वो माँ-बाप जिन्होंने जाने कितनी ही रातें सिर्फ हमें सुलाने के लिए जागकर गुजारी होंगी। 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts