पैगम ए मोहब्बत's image
Poetry2 min read

पैगम ए मोहब्बत

ambrinm0ambrinm0 January 20, 2023
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
आज मन उदास है वो जो हमसे नाराज हैं
दिल बड़ा बेकरार है ना जाने क्या बात है 
उसका ही इंतजार है जो मेरे दिल के पास है 
मन में ये ख्याल है लगता है वो साथ है
ये कैसा एहसास है क्या हमें उनसे प्यार है 
नहीं ये सब बकवास है मन में ये ख्याल है 


बंद आंखों में चेहरा उसका आता है
खुली हो आंखें  तो वो आ जाता है
उसकी बातों से कहाँ मन भरता है
वो कुछ भी कहे हमें बुरा कहा लगता है 
दिल की ये पुकार है उसे भी मुझसे प्यार है
आज मन उदास है मन में ये ख्याल है 


दिल बड़ा बेकरार है कहदूं दिल में जो बात है 
डर के मारे मेरा बुरा हाल है कहना जरूरी है
बस इतनी सी बात है उससे बिछड़ने का ख्याल है 
वो चला ही जाता है जिसको जाना होता है 
सपनो का बनाया घर पल में टूट जाता है
आज मन उदास है मन में ये ख्याल है 

कह दिया उसे जो दिल में था मेरे
क्या है जज़्बात उसके लिए दिल में मेरे
पहले बेकरार थे अब तो रातों से झगडे होते हैं मेरे 
आज आया जो जवाब है पढ़ के बुरा हाल है
 हमें भी तुमसे प्यार है बिना तुम्हारे मेरा भी कुछ ऐसा ही तो हाल है आज मन में जज़्बात है उड़ने लगा है आसमान में उसके जैसा कोई नहीं मन में ये ख्याल है 


Mansuri shayera 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts