कुदरत।'s image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

जाने कैसे मुकाम पे आकर,

ये दुनिया गई ठहर है,


पिंजड़े में जानवरों को रखता था इंसान,

आज कैद घर में हर पहर है,


जाने कैसी शाम है ये,

और होती कैसी सहर है,


सारी दिशाओं में फैला हुआ,

भयानक मौत का ज़हर है,


सहम सी गई है ज़िंदगी मानो,

हर आंख में डर की लहर है,


झुंझला उठी हम इंसानों पे शायद,

आज कुदरत बरसाती कहर है,


जाने कैसे मुकाम पे आकर,

ये दुनिया गई ठहर है।


कवि-अम्बर श्रीवास्तव

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts