अमर के सवैये's image
Share1 Bookmarks 0 Reads0 Likes
  ‌‌                                  (1)
संग उड़्यौ नंदलाल गुलाल भर्यो अँखियाँ बिच दोऊ करारे
धोवत - धोवत हारि थक्यो कछु  सूझि परै नहिं नैन निहारे
जाउँ कहाँ अरु केसों कहौं सखि तू ही कछू तो उपाय बतारे
जैसेऔ तैसे निकार्यों अबीर पै कान्हां न बाहर जात निकारे
 
                                      (2)
वंशीबजावत आनि पर्यौ चित ऐसो गड़्यौ सखि कैसे बताऊं
भोर ते आइ के सांझ भयी चित लागै कहूँ न जहाँ जँह‌‌‌ जाऊँ
भूलि गयौ घर द्वार पिता पति पूत औ मातु पड़ोस औ गाऊँ
एकै सोच सतावति है कँह जाऊँ जहाँ वन्शी धुनि पाऊँ॥
                                                ‌‌‌             अमर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts