ये खिड़की, किसने खोल रखी है's image
Poetry1 min read

ये खिड़की, किसने खोल रखी है

aman vermaaman verma July 19, 2022
Share0 Bookmarks 43 Reads0 Likes

ये खिड़की,

किसने खोल रखी है

किस हद, किस सबा

के इंतज़ार में,

ये दराज़ें,

इनसे आती हवा

सीने में बहुत भीतर,

किसी चट्टान से टकराती है

ज़िस्म को बहुत चुभती है

रह-रह के आती जाती है

आँखों में रेत भरती जाती है

बहर खाक़-खाक़ उड़ाती है,

अब बंद करदे कोई खिड़की,

अब साँस नहीं आती है ।

-"अमन"






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts