उल्का पिंड's image
Poetry2 min read

उल्का पिंड

Aman SinhaAman Sinha March 3, 2022
Share0 Bookmarks 17 Reads0 Likes

आसमान से टूटा तारा उल्का बनकर दौड़ चला

अन्धकार के महाशून्य में पाने अपनी राह चला

घर छूटने का तो दुःख था साथ टूटने का ग़म भी

अंतिम बार जो मुड़के देखा उसके नैन हुए नम भी


उसके वेग से महाशून्य में ज़ोर की गर्जन फ़ैल गयी

मिलों तक फिर ऊर्जा फैली अंधियारे को लील गयी

अभी जन्म हुआ था उसका चाल में अभी लड़कपन था

सालो बीते चलते चलते अब आने वाला यौवन था


सिर भागता था आगे उसका पूँछ दूर तक फैली थी

पीछे फैली कई मील तक तुक्ष पिंड की रैली थी

कितनी दूर अभी जाना है इसका कुछ आभास नहीं

गंतव्य तक जा पहुंचेगा इसमें कोई अट्ठास नहीं


युगों बीते चलते चलते अब बुढ़ापा आ पहुंचा

बड़े कि सी तारे के कक्षा में ये अग्नि पिंड जा पहुँचा

उसके आकर्षण में आकर अपना वेग ये खो बैठा

अनजाने में उस तारे के कई परिक्रमा कर बैठा


राह भूल के अपने घर की महाशून्य में भटका था

चुम्बक क्षेत्र में इस तारे के एक योजन पर अटका था

अब तक ठंडा हुआ नहीं था बड़े आग का गोला था

धूल गैस और कई तत्वों का पहन के रखा चोला था


वर्ष बीत गए अरबों में जब परिक्रमण आरम्भ हुआ

उस तारे के कक्षा में फिर परिभ्रमण आरम्भ हुआ

लटक गया वो आसमान में ठंडा सा गोला बनकर

तत्व सारे जमा हो गए अलग अलग तब छन-छन कर


धूल सभी तब बादल बनकर उसके सतह पर बरस पड़े

कई बरस तक तत्त्व यहां के धुप को जैसे तरस गए

पहली बार जब धपु मिली और बंदूो की बौछार पड़ी

नन्हे से अमीबा ने फिर गर्भ में इसकी साँसे ली


बहुत कठिन सफर था इसका कई बदलाव देखे है

अपने अंदर अब तक इसने कई बात छुप कर रखे है

आज जहां हम रहते है जो अपना घर कहलाती है

ये वही उल्का पिंड है जो धरती माँ बोली जाती है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts