मनमौजी's image
Share0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

इश्क के बाज़ार में ये फ़रमान निकला है

मेरे सिने से दिल जैसा जो सामान निकला है 

ना जाने क्यों आज हवाओं का रुख रोबीला हो गया 

ये दिल है या अरमानो का कोई तूफान निकला है 


जरा रुको धड़कनों को सम्हल जाने दो 

भीड़ बड़ी है यहाँ जरा तो सुस्ताने दो 

कब तक छिपता रहेगा ये नक़ाब के पिछे 

जरा पानी तो डालो, चेहरे को धूल जाने दो 


चाहे जितना भी छिप जाए मोहब्बत ढूंढ ही लेगा 

जलाएगा ये औरों को भी खुद को भी ये जलेगा 

ना देगा तोहमत ये गैरों पर टूटकर भी ये हँसेगा 

कहेगा ना कभी कुछ भी जुबा को बंद ही रखेगा

जिसे मिल जाए लौटा दे पता हम बताते हैं 

क्या इसपर ईनाम रक्खा चलो ये भी दिखाते हैं 

ये चांदी है या सोना है, या अनमोल रत्न है कोई 

वजह है क्या बुलाने की चलो ये भी समझाते है 

ये बागी है बे शरम है खुद हीं ये बताता है 

जुबा गर बंद हो फिर भी ये आँखों को भड़काता है 

ना इसको फिक्र है कोई ये आंधी किसको ले डूबे

नज़र जितना भी फेरो तुम ये नज़रों की लड़ाता है

ये क़ैदी है अपनी मर्ज़ी का कोई भी बांध न पाया

वहीं जाकर अटकता ये जहां है प्यार का साया 

कोई दे लाख लालच भी इसे दौलत और शोहरत का 

कभी लौटा नही उस ओर जिसे है छोड कर आया 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts