मलाल's image
Share0 Bookmarks 54 Reads0 Likes

थक गया हूँ झूठ खुद से और ना कह पाऊंगा

पत्थरों सा हो गया हूँ शैल ना बन पाऊंगा

देखते है सब यहाँ पर अजनबी अंदाज़ से

पास से गुजरते है तो लगते है नाराज़ से


बेसबर सा हो रहा हूँ जिस्म के लिबास में

बंद बैठा हूँ मैं कब से अक्स के लिहाफ में

काटता है खलीपन अब मन कही लगता नहीं

वक़्त इतना है पड़ा के वक़्त ही मिलता नहीं


रात भर मैं सोचता हूँ कल मुझे कारना है क्या

है नहीं कुछ हाथ मेरे सोच के डरना है क्या

टोक न दे कोई मुझको मेरी इस बेकारी पर

कुछ नहीं है दोष मेरा मेरी इस लाचारी में


चाह नाग बनने की है पर देव बनना है नहीं

राह रोके दूसरों का वो कंकड़ बनना नहीं

आजकल हर घडी बस मेरे सब्र का इन्तेहान है

टूट सकती है कभी भी इस डोर में ना जान है


खौफ का साया यहाँ है हर तरफ फैला हुआ

ज़ुर्रतों का खान था जो छोटा सा थैला हुआ

खो गया जो ये समय तो लौट के ना आएगा

ढल गयी जो ये जवानी उम्र भर पछताएगा


कितनी बार मैं कह चूका हूँ काम कारना है मुझे

एक बार फिर और ऊंचा नाम करना है मुझे

नौकरी खो जाने का दर और ना सह पाऊँगा

कह सका ना जो किसी से घुट के ही मर जाऊंगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts