कब चाहा मैंने's image
Poetry2 min read

कब चाहा मैंने

Aman SinhaAman Sinha June 21, 2022
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे नैना चार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मुझसा प्यार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मेरे जैसा इज़हार करो 

कब चाहा मैंने के तुम अपने प्रेम का इकरार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मिलने को तड़पो 

कब चाहा मैंने के तुम बादल जैसे मुझपर बरसो 

कब चाहा मैंने के तुम अपना सबकुछ मुझपर लूटा बैठो 

कब चाहा मैंने के तुम अपना चैन सुकून गवा बैठो 


कब चाहा मैंने के तुम चाहो मुझको दीवानों सा 

कब चाहा मैंने के तुम याद करो मुझे बहानों सा 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मिलो बहाने से 

कब चाहा मैंने के तुम मुझे महफ़ूज रखो जमाने से 


कब चाहा मैंने के तुम एक पल मे मेरे हो जाओ 

कब चाहा मैंने के तुम पूरी तरह से बदल जाओ 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे झुठी तकरार करो 

कब चाहा मैंने के तुम बस आँखों-आँखों में प्यार करो 


हाँ मगर चाहा था मैंने एक दिन तेरा सबर टूटे 

जैसे मेरे दिल में फूटा, तुझमे भी प्रेम का अंकुर फूटे 

हाँ मगर चाहा था मैंने तुम बस मुझसे हीं प्यार करो 

जैसे रटूँ मैं नाम तुम्हारा तुम मेरे नाम का जाप करो 


हाँ यही चाहा था मैंने हम एक-दूजे के हो जाए 

हांथ पकड़ कर एक-दूजे का बेसुध होकर खो जाए 

हाँ यही चाहा था मैंने पहले तुम इजहार करो 

जितना मैंने चाहा तुमको तुम मुझसे उतना प्यार करो







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts