जी चाहता है's image
Poetry2 min read

जी चाहता है

Aman SinhaAman Sinha April 30, 2022
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

है फूलों सी खुशबू तेरे इस बदन में

जी चाहता है मैं साँसों में भर लूँ

अधूरा रहेगा ये इकरार मेरा

पहलू में अपने जो तुझको ना भर लूँ


हंसी से तेरी खिल जाती है कलियाँ

जगमग सी हो जाती है तेरे आने से दुनिया

है किसने मिलाया नशा इस समा में

कदम लड़खड़ाते है देख कर तेरी गालियां


मैं ज़िंदा हूँ साँसे लिए जा रहा हूँ

यौवन को तेरी पीए जा रहा हूँ

सरकने ना देना तू सीने से आँचल

ख्वाहिश मनचलों सी किये जा रहा हूँ

तेरी हर हया को बस मैं जानता हूँ

तेरी हर अदा को मैं पहचानता हूँ

छुपा के जो रक्खा है दिल तुने अपना

वो मेरा ही हक़ है ये मैं मानता हूँ


बातों में अपनी तू उलझा के रख ले

सवालों के मेरी तू सुलझा के रख ले

जताना तभी तू अपनी वफ़ा को जो

मुझे अपनी आखों में बसा के तू रख ले


दवा का असर और दुआ की कसर है

बिन तेरे मुझपे ये सब बेअसर है

है मुमकिन नहीं कुछ भी तुझसे छुपाना

हर हरकत पर मेरी ये तेरी नज़र है 

 

झिझकते हुए तेरी बातों को कहना

मेरे साथ अंजानी राहों पर चलना

ये मैं जानता हूँ या तू जानती है

कैसा मज़ा है मोहब्बत की तडपन में जलना


सफर है ये लंबा मगर काट लेंगे

आपस में अपने हम ग़म बाँट लेंगे

मिलेंगे ज़ख़्म ये हमको पता है

वफाओं की पट्टी हम बाँध लेंगे 



 




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts