एक दिन मुझ सा जी लो's image
Poetry2 min read

एक दिन मुझ सा जी लो

Aman SinhaAman Sinha July 23, 2022
Share0 Bookmarks 18 Reads0 Likes

एक दिन मुझ सा जी लो 

हाँ बस एक दिन मुझ सा जी लो 

जाग जाओ पाँच बजे तुम और बर्तन सारे धो लो 

पानी भरने के खातिर फिर सारे नल तुम खोलो 

कपड़,पोछा,झाड़ू करकट बस एक बार तो कर लो 

बस एक दिन मुझ सा जी लो   


नाश्ते खाने की लिस्ट बनाओ 

राशन, बाज़ार करके लाओ 

सब्जी वाले से थोड़ा तुम मोल भाव तो कर लो 

दूध वाले से, धोबी से, गैस वाले से, बनिये से तू-तू मैं-मैं तो कर लो 

बस एक दिन मुझ सा जी लो 


घर का पूरा बोझ उठाओ 

सबके मन का खाना पकाओ 

सबका ध्यान रखो तुम फिर भी सबके ताने खाओ 

है हिम्मत तो मुझ जैसा तुम सब्र तुम खुद मे भर लो 

बस एक दिन मुझ सा जी लो 


हर रिश्ते को बांधे रखो 

हर बंधन को साधे रखो 

अपने आत्मसम्मान को उनके खातिर किसी किनारे धर लो 

चाहे जितना भी काम करो, बिलकुल ना आराम करो 

पर आपनों की बातों में कभी तुम अपना नाम ना लो 

बस एक दिन मुझ सा जी लो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts