बारिश's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

बूंदों का बरसना यूं बिजली का कड़कना

कुछ याद पुरानी सी तड़पा के हमको चली गयी

बात हल्की सी थी बिल्कुल फुहारों की तरह

अनसुनी सी कानो में सुना के वो चली गयी


एक मुद्दत से हमने अश्कों को छुपा रक्खा था

बेदर्द थी बारिश आज हमे रुला के चली गयी

आज मस्ती थी बड़ी झूमता हर एक ग़म था

छत फूटी थी मेरी बि स्तर भींगा के चली गयी


पक्के मकान को गर्मी से जैसे राहत थी मिली

फुटपाथ के बर्तन को संग बहा के चली गयी

नांव से खेलते थे बच्चे घर के आंगन में

कच्चे मकान को पल में डूबा के चली गयी


आँगन में कि सी के कुछ का अनाज रक्खा था

तेज़ी से आई वो संग अपने बहा कर चली गयी

खेत में अभी ही तो खिली थी बेलियाँ

बेलों के साथ वो मिट्टी भी अपने ले चली गयी


घाव गहरे थे मेरे मलमल से छुपा रक्खा था

साथ मेरे मलमल को भी भींगा के चली गयी

दाग जितने भी लगे थे उसकी आँचल में

आज सबको धो के साथ अपने लेके चली गयी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts