वक्त's image
Share0 Bookmarks 88 Reads0 Likes
कह रहे है ज़ालिम सन्नाटा भरो
खुद की कहानियों में
कही डूब ना जाना
अतरंगी परेशानियों में
ये जो वक्त है न
जज़्बातों को भी रोक लेता है
सुलझी हुई पहेलियों में भी
उलझनें ख़ोज लेता है
थम थम के अहसास करो
मरते मरते भी दम से लड़ो
ये जो बदन में आग है
इसके ताप से तो डरो
अपटन से जो कालिख़ जमी है
अंदर थोड़ी नमी है
जल जल के तो हम पके है
थोड़ी अकड़ तो लाजिमी है..

~अमन

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts