तुम दुलारी's image
Share0 Bookmarks 36 Reads0 Likes
ओझल दुनिया की ओझल सी यारी
हमारी निगाहों की तुम दुलारी

अगले सफ़र की तुम हमसफर
तुम्हारे बाहों में मैं हर पहर..

ख़त लिखूं तो खता हो जाए
इश्क़ करते करते बीत जाए समर

सब्र करें या करें दखलअंदाज़ी
आंखों में डूब जाऊं या छू ले अधर

दखल हम देंगे नहीं सपनों में
थोड़ा लगता है तुम्हारें बातों से डर

~अमन


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts