रजामंदी's image
Share0 Bookmarks 44 Reads0 Likes
ये किस बात की जुगलबंदी है
हमारे सपनों की चकबंदी है

मोहतरमा से पूछो क्या क्या सहा है 
घर से निकलने की भी पाबंदी है

ताक ले चांद को तो आसमां नाराज हो जाता है
बादलों का कहना है,क्या उससे ली गई रजामंदी है


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts