अनतरात्मा की पुकार's image
Share0 Bookmarks 22 Reads1 Likes
तुमको ही तब वस्तु  समर्पित,
चाहूंगा स्वीकार्य करो।
घट-घट में मानस के स्वामी,
मेरे मृदु उद्गार भरो।
        

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts