जिंदगी's image

ग़ज़ल

कब तलक यूं ही हाल करना है

जीते जी ही विसाल करना है


अब तो ये हाल की बरसों तक

ज़िंदगी पर मलाल करना है


रंज मत कर यूँ हाल पे मेरे

मुझको सबका ख़्याल करना है


कब तलक झेलता रहूंगा दुख

हाल अपना निहाल करना है


लोग पड़ जाए देख हैरत में

यार ऐसा कमाल करना है

अक्तर अली आलिफ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts