राही राहों में...'s image
Love PoetryPoetry1 min read

राही राहों में...

Akshay Anand ShriAkshay Anand Shri December 22, 2021
Share0 Bookmarks 119 Reads0 Likes

कदम

बढ़ रहे हैं

मंजिल की ओर


राहें बहुत दलदली हैं

शुष्क फिजायें भी

गिरने का भी डर


रफ्तार तेज करूँ तो

पाँव जमीं में धस जाते

जैसे कींचड़ में पैर


रफ्तार धीमी करूँ तो

दिल में बेचैनी भी होती है

क्या करूँ बड़ी उलझन है


ले लील भले ही राह मुझे

लौटना नहीं स्वीकार मुझे 

-

बड़ी विस्मय की बात ये

बड़ी अनोखी है बात ये


वादे किये,न फिरूँ पीछे

हिम्मत है,न तकूँ पीछे


भले हीं कुछ देरी हो, चिंता भी हो

पर सफर की शाम मंजिल पे हीं हो


जीवन की राहें ऐसी भी

कहीं काँटे,कहीं कंकड़ भी


सफर में रही अब सोचे क्या

मंजिल की धुन,चिंता क्या


राही राहों में

घबराना ना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts