वक़्त बे - वक़्त।'s image
Love PoetryPoetry1 min read

वक़्त बे - वक़्त।

Akrit Singh JadounAkrit Singh Jadoun September 12, 2021
Share0 Bookmarks 122 Reads0 Likes

यूं वक़्त बे - वक़्त याद आया ना कर

इस दिल को यूं तरसाया ना कर,

ज़माना रुक रुक कर सुनता हैं नज़्में तेरी,

इस ज़माने को मोहब्बत की सच्चाई बतलाया ना कर,


जो लोग तेरे अपने हैं 

उन्हें गैरों में गिनवाया ना कर,

क्या याद करता हैं आज भी तू उसे?

यूं हर बार दर्द की हदों तक जाया ना कर,


आज मुलाक़ात मुकम्मल नहीं हुई उसकी 

ऐसे मिलने के लिए उसे तड़पाया ना कर,

वो भी किसी दिन रोएगा याद में तेरी

तू बस उसे कहीं भी ग़लत बताया ना कर।

~Akrit


*My book* (Shabd mala)

Check out my book 'Shabd Mala' On amazon, give it a read and write your valuable reviews.


*My blogs*

akritwrites.blogspot.com

akritwrites.medium.com

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts