जवाँ है हौसला's image
1 min read

जवाँ है हौसला

आकिब जावेदआकिब जावेद June 16, 2020
Share0 Bookmarks 26 Reads1 Likes

जवाँ है होंसला हवा के रुख़ बदलने का 

लिखूं मैं गीत किसी रूप के  सँवरने का

पहाड़ - सा हो इरादा , कि आँधियाँ सहमें 

न रेत घर बने कि , ख़ौफ़ हो बिखरने का

बजे वो साज कि नाचें , लहर  के रूहें भी 

मैं गाऊँ  राग आबशार  के  मचलने का

जियूँ ये जिंदगी फिर से ,महकते फूलों - सी 

खिलूं मैं ले के जवाँ जोश, हँस के मरने का

बना के  दोस्त सभी मौसमों  को मैं यारो 

पियूँ वो जाम कि  न होश  हो सँभलने का

बनूँ   न  आब कि  बह जाऊँ मैं ढलानों में 

मैँ लाऊँ आग का जज़्बा भड़क के खिलने का

खिलें 'आकिब' भी लिए कल की फिर से आशायें 

हो  फ़ख़्र फिर से चमन में मेरे निखरने का

-आकिब जावेद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts