हार निश्चित हो जाती हैं's image
Poetry1 min read

हार निश्चित हो जाती हैं

ajay vermanajay verman August 19, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
हार  निश्चित  हो  जाती  हैं  मान लेने से!

असंभव संभव हो जाती हैं ठान लेने से !!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts