तुझ से सुंदर नहीं है कोई's image
Love PoetryPoetry1 min read

तुझ से सुंदर नहीं है कोई

mitra ajay gautammitra ajay gautam October 26, 2021
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes
तुझ से सुंदर नहीं है कोई
दर्पण आज यह बोला है|

मैंने छलनी लेकर साजन 
चंदा से तुझको तोला है|

चंदा देखे दीप जलाकर
यार तू तो बड़ा भोला है|

चांद भरोसे के न काबिल
वह रोज बदलता चोला है|

आज चांद से कैसी उम्मीदें
जो खुद पूरा ना गोला है|

तेरे भीतर तुझको न पाया
मैंने अच्छे से खूब टटोला है|

उसे न तेरी न मेरी परवाह
मेरा माहताब मस्तमौला है|

शीत ऋतु और चंदा शीतल
पर लगे आज तू शोला है|
-अजयसिंह गौतम 9300280390 24/10/2021

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts