मेरा क्या कसूर है's image
Love PoetryPoetry1 min read

मेरा क्या कसूर है

mitra ajay gautammitra ajay gautam October 30, 2021
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes
अभी आई और अभी जाने को तू आतुर है|
तू करती हैं मुहब्बत या बस मेरा फितूर है||

एक पूछूं लाख मगर तू बताती ही नहीं मुझको
लजाती मुझसे है या फिर खुद मैं मगरुर है||

जो रातों को पढ़े गजल मेरी और मुस्कुराती है
खातून ख्वाब में मुझसे लिपट जाती जरूर है||

गई थी छोड़कर मुझको कि याद आऊं न मैं कभी
करती याद ज्यादा मुझको जो मुझसे दूर है||

है मुझमें खासियत ही क्या जो मुझको तू चाहे
एक मेरा दिल जिसके आगे जमाना मजबूर है||

मुझ पर क्यों जताता है तू फासलों की मजबूरियां
मैं तुझसे जितना दूर तू भी मुझसे उतना दूर है||

गया तू छोड़कर मुझको खुद अपनी मर्जी से यारा
बनाई तूने ही दूरी इसमें भी मेरा क्या कसूर है||

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts