मुहब्बत का इज़हार कर, ऐ दोस्त's image
Poetry1 min read

मुहब्बत का इज़हार कर, ऐ दोस्त

Ajay Singh YadavAjay Singh Yadav April 27, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
एक तरफा इश्क़ न कर , ऐ दोस्त ।
अपने मुहब्बत का इजहार कर , ऐ दोस्त ।।
ये मुहब्बत नहीं दोस्त , दिल दुखाना होता है ।
अपने मुहब्बत को लोगों से छुपाना होता है ।।
इस कदर चुप बैठकर मुहब्बत का इजहार करोगे ,
ऐ दोस्त मुहब्बत में घुटनों के बल भी बैठना होता है "।।।
                   - अजय सिंह यादव 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts