आज का विचार's image
Share0 Bookmarks 50 Reads1 Likes
किसी ने मुझसे पूछा , कि जब जीवन की शुरुवात और जीवन का अंत एक समान है।
तो फिर जीवन की शुरुवात में इतनी खुशी क्यों ?
जीवन के अंत में इतना विलाप क्यों ?
मैंने जवाब दिया ,
विलाप जीवन के अंत से नहीं अपनों के विछुड़ जाने से होता है ।
खुशी जीवन के शुरुवात से नहीं किसी दूसरे को अपना बन जाने से होती है।
इसी को हम मानवता कहते हैं ।
       - अजय सिंह यादव

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts