समरसता की होली's image
Poetry1 min read

समरसता की होली

Ajay JhaAjay Jha March 18, 2022
Share0 Bookmarks 254 Reads2 Likes

होलिका की आग में
अहंकार ही तो जलता है
फिर बैर छुपा अंतर में
मानव क्यों खुद को छलता है।


रंग भरे जब ईश्वर ने
तब मूल था खुशहाली आए
पर मानव की करतूतों से
भेद बढ़े, बदहाली छाए।


जोड़ दिया मूढों ने
रंगो को भी धर्मो से
और भूल गए क्यों प्रकृति ने
सतरंगी इन्द्र धनुष बनाए।


श्वेत अश्वेत कभी करते है
कभी परचम लेकर लडतें हैं
रख प्रेम भाव को ताक पर
निमर्म नृशंस हो भिड़ते हैं।


है काल साक्षी इन कर्मो से
बस भय अक्रांत ही फैला है
चाहे फाड़ दो कुछ पन्नों को
पर इतिहास का आँचल मैला है।


फाल्गुन की मधुर बेला में
चलो इक मन्त्र दोहराते है
सब रंगो को लेकर संग
समरसता की होली मनाते हैं



अजय झा **चन्द्रम्**


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts