दर्द का किस्सा's image
Poetry1 min read

दर्द का किस्सा

Ajay JhaAjay Jha June 5, 2022
Share0 Bookmarks 156 Reads2 Likes

दीदारे दर्द का किस्सा
बड़ा बेचैन करता है
गुजरते हर एक् लम्हे मे
तेरा ही जिक्र रहता है।


वो कहते हैं कि बताओ
अब दर्द कैसा है
कुछ् कम हुआ है कि
पहले के हि जैसा है।



दवा तो दे नही सकते
अजी ये मर्ज गहरा है
के कतरे कतरे मे ठहरा
सिर्फ् दर्द का पहरा है।


कोइ पुछे वजह् मुझसे
तो सब याद आता है
जख्मों के किनारे से
परत फिर उतर ही जाता है।


दुआ है  दर्द का दामन
युहिं आबद होता रहे
मुझ जैसे स्वर्थियों को
ये सौगत मिलता रहे।


अब जो टीस है अन्दर्
वो शायद कम नही होगी
मर जाये तो आखिर मे
जलके खत्म हि होगी।



अजय झा **चन्द्रम्**

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts