ख़त's image
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

सुनो , जा ही रहे हो तो सुनते हुए जाओ ना  मैं हर रोज़ ऐसी ही रहूँ ये तो प्रकृति के नियम केविरूद्ध है , हाँ मगर मैं हर रोज़ तुम्हें ऐसे ही प्यार करूँ तो इसमें मेरी वास्तविकता होगी , मेरी प्रकृतिऔर मेरे दिल के नियम होंगे इसमें बाज़ारू , समसामयिक मिलावटें नहीं होंगी इसमें सिर्फ़ मेरा भावहोगा निःस्वार्थ भाव तुम्हें प्रेम देने का  


मुझे तुमसे प्रेम करना होगा तो मैं ऐसे ही करूँगी जो मेरा वास्तविक स्वरूप होगा , 

यदि मुझे अपना स्वरूप बदलना पड़ जाए प्रकृति की सबसे पवित्र रचना को प्यार करने के लिए तोफ़िर वो अपराध होगा , दबाव में आकर किया गया झूठ प्रेम प्रदर्शन होगा  


मैं ग़ुस्से में , दुःख में , सामान्य स्तिथि में 

तुम्हें प्यार करना चाहती हूँ , ताकि तुम जानो की परिस्थिति अनुसार भी मेरा प्रेम तुम्हारे लिए कमनहीं होता बस प्रेम बयान करने का ज़रिया बदलना पड़ जाता है  


सकारात्मक धाराओं में प्रेम के धागे से जुड़े रहना और नकारात्मक धाराओं में प्रेम से जुड़े धागे कोतोड़ देना  प्रेम नहीं बल्कि मौक़ा परस्ती है  प्रेम के पेड़ का फल का हक़दार वही है जो  पेड़ कोसींचे , आँधी से बचाए , और ज़रूरत पड़ने पर उसे टूटने से भी बचाए  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts