अंजाम-ए-इश्क...'s image
Share0 Bookmarks 80 Reads1 Likes

फिर एक नया रिश्ता बना रहे हो तुम

इतना हौसला कहा से ला रहे हो तुम


तुम्हें मालूम है अंजाम-ए-इश्क क्या है

फिर भी इश्क किये जा रहे हो तुम


ये दिल को कोई तवायफ़ का कोठा नहीं

क्यों हर किसी को इसमें ला रहे हो तुम


- आकाश चौधरी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts