काश!'s image
Share1 Bookmarks 67 Reads2 Likes
जहां श्रंगार है
वहीं से उपजेगा 
वियोग भी
पीड़ा भी
हास्य भी 
वीभत्स भी
करुणा भी
और रसों का
रसास्वादन भी
इस श्रंगारित सहयोग के
संयोग से
सब कुछ परिभाषित हो रहा है
कुछ मिलन पतझर है
कुछ बहार सा खो रहा
अभी यह जो
संतृप्ति है
असल मे यही
भटकाव है
काश!इस सादा जीवन में
रोचकता महज़
बहाव होता
शांत शीतल बहाव
जो बह जाता उधर
जिधर का बहाव होता......
                 आचार्य अमित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts