मुक्तक's image
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

आपको सब नहीं समझ आता

आपको सब नहीं समझते हैं।

रास्ते तो और भी मिल जाते हैं

वक्त के पहिए कहाँ पलटते हैं?


...

©अबोध_मन’फरीदा’ ✍

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts