दोहे जैसा's image
Share1 Bookmarks 42 Reads2 Likes


दोहे_जैसा


कोर टिकोर निहरैं साजन, मन भया डोर पतंग।

सम्मुख आए लजावत पिया, दूरै से भरत उमंग।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts