वक्त के मारे है साहब's image
1 min read

वक्त के मारे है साहब

Atul FarrukhabadiAtul Farrukhabadi January 7, 2022
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes
वक्त के मारे है साहब
आपके सहारे है साहब,

लोग तो मौत से भी लड़ते हैं
हम जिन्दगी से हारे हैं साहब।।

जब तुम साथ थे,
शामें थीं, शराबें थीं महफिलों में रौनकें थीं,
जब से तुम गए हो सब सुनी पड़ी है साहब।।

#अतुल_फर्रुखाबादी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts