ये बीत रहा साल's image
1 min read

ये बीत रहा साल

Abhay DixitAbhay Dixit December 31, 2021
Share3 Bookmarks 299 Reads4 Likes
यूँ ही नये साल आयेंगे,
 पुराने जायेंगे,
किसी को खट्टी,
 किसी को मीठी याद दे जायेंगे,
किसी के सपने टूटेंगे,
तो किसी के अपने रुठेंगे,
पर ये बीत रहे साल का क्या कहना,
इसने तो अलग ही बेरुखी दिखा दी,
न इसको याद रखेंगे,
न भूल पायेंगे,
सपने टूटते तो नये संजो लेते,
अपने रूठते तो मना लेते,
जो छूट गए हैं अपने,
वक्त की दहलीजों पर,
उनको हम कैसे वापस लायेंगे।।
~अभय दीक्षत

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts