ख़ुशी  से  गम  का!'s image
Poetry1 min read

ख़ुशी  से  गम  का!

Abhay DixitAbhay Dixit June 9, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
ख़ुशी  से  गम  का  मैंने  रिश्ता   देखा है,
बाहर हँसते लोगों को अंदर रोते देखा है।।
~अभय दीक्षित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts