हवा में जहर घुल चुका है!'s image
Poetry1 min read

हवा में जहर घुल चुका है!

Abhay DixitAbhay Dixit August 3, 2022
Share0 Bookmarks 65 Reads0 Likes
हवा में जहर घुल चुका है, बो शायद किसी और से मिल चुका है
हिचकियाँ रुक गई हैं अब मेरी, शायद बो  बदल चुका है।।

जमाने को कैसे समझाऊँ ,अब खाली हंगामा बचा है,
जिसके चर्चे मेरी बगियाँ में थे, बो गुलाब कहीं और खिल चुका है।।

शायद मैं ही सोच रहा हूँ, दिल में दबोच रहा हूँ,
जिसको जाना था, बो कबका यहाँ से निकल चुका है।।

मेरी रूह का उन्माद, अब थम सा गया है,
जो दिल सागर था पहले, अब किनारा हो चुका है ।।
~अभय दीक्षित




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts