किस बात की लडाई ?'s image
Love PoetryPoetry1 min read

किस बात की लडाई ?

Abasaheb MhaskeAbasaheb Mhaske September 3, 2021
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

आजा शाम होने आई

किस बात की लडाई ?

गर जिंदा रहना है ना

सबको साथ देना होगा

 

चाहे कुछ भी हो अखिर

गंगा – जमना तहजिब

दोस्त हमे नही है भूलना

हाथ पकडकर साथ है चलना

 

भारत देश हमारा बडा प्यारा

हिंदु – मुस्लिम , शीख, ईसाई

मिल – जुलकर रहेंगे यारो

चाहे कितनी क्यू ना दिक्कते हो

 

सोना उगले किसान ...

सरहद पर जवान खडा है

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा

झंडा ऊंचा... रहे हमारा

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts